Breaking News

आतंक को मदद का खुला ऐलान पर दुजाना का शव लेने से पाकिस्तान का इनकार

कश्मीर में एक तरफ तो पाकिस्तान आतंकियों की मदद का खुला ऐलान करता है यहां तक कि अमेरिका द्वारा घोषित आतंकी सैय्यद सलाउद्दीन को आतंकी मानने से भी पाकिस्तान इंकार कर देता है लेकिन वहीं दूसरी ओर पाकिस्तानी आतंकी अबु दुजाना जब कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा जाता है तो पाकिस्तान अब उसका शव लेने से भी इनकार कर रहा है.

जम्मू-कश्मीर के लश्कर ए तैयबा चीफ अबु दुजाना को मारने के बाद अब भारत ने इस मुद्दे पर पाकिस्तान को घेरने की तैयारी की और पाकिस्तानी उच्चायोग को शव सौंपने का आवेदन दिया. पाकिस्तान ने दुजाना का शव लेने से साफ इंकार कर दिया. पाकिस्तान इसे सियासी मुद्दा मानता है. पाकिस्तानी उच्चायोग दलील दे रहा है कि भारत इसे कूटनीतिक फायदे के इस्तेमाल कर रहा है. सूत्रों का मानना है कि पाकिस्तानी पक्ष का कहना है कि इससे पहले मारे गए पाकिस्तानी आतंकियों का अंतिम संस्कार सुरक्षाबल भारत में कर देते हैं लेकिन इस बार मामले को भारत तूल दे रहा है.

पुलवामा में मारा गया अबु दुजाना पाकिस्तान का रहने वाला था. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अबु दुजाना की सारी जानकारियां इकट्ठी की. पुलिस ने उसके घर का पता, परिवार के सदस्यों की जानकारी जुटाने के बाद दुजाना के शव को पाकिस्तान उच्चायोग को सौंपने की सूचना दी लेकिन पाकिस्तानी दूतावास की ओर से उसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया गया.

अबु इस्माइल ने ली दुजाना की जगह

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों द्वारा मुठभेड़ के दौरान मारे गए लश्कर कमांडर अबु दुजाना की जगह अब अबु इस्माइल लेगा. इस्माइल वही आतंकी है, जिसने पिछले महीने अमरनाथ यात्रियों पर हमला किया था. इस आतंकी हमले के मास्टरमाइंड इस्माइल ने अपने तीन साथियों के साथ इस वारदात को अंजाम दिया, जिसमें 7 यात्रियों की मौत हो गई थी.

बताते चलें कि साल 2010 में अबु दुजाना लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था. उसने पीओके के ट्रेनिंग कैंपों में आतंकवाद की ट्रेनिंग ली थी. उसके बाद साल 2012 में पीओके से कश्मीर में घुसा था. साल 2015 में अबु कासिम के मारे जाने के बाद दुजाना को लश्कर का कमांडर बना था. वह A++ कैटेगिरी का आतंकी था, उस पर करीब 30 लाख रुपये का इनाम था.

गौरतलब है कि भारतीय सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को पुलवामा में चले एनकाउंटर में अबु दुजाना को मार गिराया. दुजाना के अलावा इस मुठभेड़ में दो और आतंकी मारे गए हैं. दुजाना कई बार सेना को चकमा दे चुका था, लेकिन इस बार वह भागने में नाकाम रहा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*