Breaking News

फिल्म प्रमोशन के लिए दिल्ली की झुग्गी बस्ती वालों सें मिलेंगे शाहरुख

अक्सर फिल्म स्टार अपनी फिल्मों के प्रमोशन के लिए मॉल और स्टेडियम, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ जैसी जगह चुनते हैं. लेकिन अब शाहरुख कुछ हटकर करने जा रहे हैं. शाहरुख अपनी फिल्म जब हैरी मेट सेजल के प्रमोशन के लिए दिल्ली की एक झुग्गी बस्ती में जा रहे हैं. इस मौके पर शाहरुख के साथ अभि‍नेता से नेता बने मनोज तिवारी भी नजर आएंगे. इसे शाहरुख की फिल्म के प्रमोशन का नुस्खा कह लें या फिर मनोज तिवारी का सियासत चमकाने का फार्मूला, लेकिन इन दोनों के मेल से दिल्ली की एक झुग्गी बस्ती फिल्मी सितारों से रोशन जरूरहोने वाली है.

झुग्गी बस्ती में प्रमोशन के लिए मनोज तिवारी ने शाहरुख को मनाया

खबरों की मानें तो शाहरुख अपनी आने वाली फिल्म ‘जब हैरी मेट सेजल’ के प्रमोशन के लिए 11 अगस्त को दिल्ली में झुग्गी बस्ती में जाएंगे और वहां लोगों से रूबरू होंगे. दरअसल झुग्गी बस्ती में फिल्म को प्रमोट करने का आइडिया दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष और भोजपुरी फिल्मों के स्टार मनोज तिवारी का था. हाल ही में बनारस में फिल्म जब हैरी मेट सेजल के प्रमोशन के मौके पर मनोज तिवारी को भी बुलाया गया था. इस मौके पर शाहरुख खान और मनोज तिवरी ने मिलकर भोजपुरी गाना भी गया. इसी मुलाकात के बाद मनोज तिवारी ने शाहरुख को फिल्म प्रमोशन का एक खास आइडिया शेयर किया और शाहरुख ने उनके प्रमोशन के इस नए जरिए को रजामंदी भी दे डाली.

शाहरुख की जिंदगी की कहानी झुग्गी में रहने वाले युवाओं को देगी प्रेरणा

मनोज तिवारी ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि शाहरुख दिल्ली के रहने वाले हैं और फिल्मों में आने से पहले वो भी एक सामान्य परिवार में रहते थे. आज वह जिस मुकाम पर है उसके लिए उन्होंने अपने दम पर जो मेहनत की है वह किसी के लिए प्रेरणा का जरिया बन सकती है. मनोज तिवारी बोले, हमने शाहरुख से पूछा कि अगर वह दिल्ली की किसी झुग्गी बस्ती में जाकर अपनी जिंदगी के सफर के बारे में युवाओं को बताएं तो ये उनके लिए बेहद आत्मविश्वास को बढ़ाने वाली बात होगी. शाहरुख ने इस प्रस्ताव को मानते हुए खुशी खुशी इस के लिए अपनी रजामंदी दे दी.

बता दें कि मनोज तिवारी दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष बनने के बाद झुग्गियों में कई बार वहां के लोगों के साथ वक्त गुजारते हैं, रात में रुकते हैं, उनसे बात करतें और समस्याएं भी सुनते और सुलझाते हैं. लेकिन शाहरुख का झुग्गी बस्ती वालों से मिलने वाले प्रोग्राम से इतना तो तय है कि मनोज तिवारी ने एक साथ दो निशाने साधने की कोशिश कर रहे हैं, फिल्म का प्रमोशन तो बहाना है, असल में तो मकसद अपनी राजनीति भी चमकाना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*